Green Revolution in India – A Brief Introduction (हरित क्रांति)

भारत में हरित क्रांन्ति का प्रारम्भ 1966-1967 में हुआ। ‘हरित क्रान्ति’ को भारत में प्रारम्भ करने का सम्मान ‘नोबेल पुरस्कार’ विजेता प्रोफ़ेसर ‘नारमन बोरलॉग’ को है। हरित क्रान्ति भारतीय कृषि में लागू की गई उस विकास विधि का परिणाम है, जो 1960 के दशक में पारम्परिक कृषि को आधुनिक तकनीकि द्वारा प्रतिस्थापित किए जाने के रूप में सामने आई। क्योंकि कृषि क्षेत्र में यह तकनीकि एकाएक आई, तेजी से इसका विकास हुआ और थोड़े ही समय में इससे इतने आश्चर्यजनक परिणाम निकले कि देश के योजनाकारों, कृषि विशेषज्ञों तथा राजनीतिज्ञों ने इस अप्रत्याशित प्रगति को ही ‘हरित क्रान्ति’ की संज्ञा प्रदान कर दी। हरित क्रान्ति की संज्ञा इसलिये भी दी गई, क्योंकि इसके फलस्वरूप भारतीय कृषि निर्वाह स्तर से ऊपर उठकर आधिक्य स्तर पर आ चुकी थी।

उपलब्धियाँ

हरित क्रान्ति के फलस्वरूप देश के कृषि क्षेत्र में महत्त्वपूर्ण प्रगति हुई। कृषि आगतों में हुए गुणात्मक सुधार के फलस्वरूप देश में कृषि उत्पादन बढ़ा है। खाद्यान्नों मे आत्मनिर्भरता आई है। व्यवसायिक कृषि को बढ़ावा मिला है। कृषकों के दृष्टिकोण में परिवर्तन हुआ है। कृषि आधिक्य में वृद्धि हुई है। हरित क्रान्ति के फलस्वरूप गेहूँ, गन्ना, मक्का तथा बाजरा आदि फ़सलों के प्रति हेक्टेअर उत्पादन एवं कुल उत्पादकता में काफ़ी वृद्धि हुई है। हरित क्रान्ति की उपलब्धियों को कृषि में तकनीकि एवं संस्थागत परिवर्तन एवं उत्पादन में हुए सुधार के रूप में निम्नवत देखा जा सकता है-

कृषि में तकनीकि एवं संस्थागत सुधार रासायनिक उर्वरकों का प्रयोग

नवीन कृषि नीति के परिणामस्वरूप रासायनिक उर्वरकों के उपभोग की मात्रा में तेजी से वृद्धि हुई है। 1960-1961 में रासायनिक उर्वरकों का उपयोग प्रति हेक्टेअर दो किलोग्राम होता था, जो 2008-2009 में बढ़कर 128.6 किग्रा प्रति हेक्टेअर हो गया है। इसी प्रकार, 1960-1961 में देश में रासायनिक खादों की कुल खपत 2.92 लाख टन थी, जो बढ़कर 2008-2009 में 249.09 लाख टन हो गई।

उन्नतशील बीजों के प्रयोग में वृद्धि

देश में अधिक उपज देने वाले उन्नतशील बीजों का प्रयोग बढ़ा है तथा बीजों की नई नई किस्मों की की गई है। अभी तक अधिक उपज देने वाला कार्यक्रम गेहूँ, धान, बाजरा, मक्का व ज्वार जैसी फ़सलों पर लागू किया गया है, परन्तु गेहूँ में सबसे अधिक सफलता प्राप्त हुई है। वर्ष 2008-2009 में 1,00,000 क्विंटल प्रजनक बीज तथा 9.69 लाख क्विंटल आधार बीजों का उत्पादन हुआ तथा 190 लाख प्रमाणित बीज वितरित किये गये।

सिंचाई सुविधाओं का विकास

नई विकास विधि के अन्तर्गत देश में सिंचाई सुविधाओं का तेजी के साथ विस्तार किया गया है। 1951 में देश में कुल सिंचाई क्षमता 223 लाख हेक्टेअर थी, जो बढ़कर 2008-2009 में 1,073 लाख हेक्टेअर हो गई। देश में वर्ष 1951 में कुल संचित क्षेत्र 210 लाख हेक्टेअर था, जो बढ़कर 2008-2009 में 673 लाख हेक्टेअर हो गया।

पौध संरक्षण

नवीन कृषि विकास विधि के अन्तर्गत पौध संरक्षण पर भी ध्यान दिया जा रहा है। इसके अन्तर्गत खरपतवार एवं कीटों का नाश करने के लिये दवा छिड़कने का कार्य किया जाता है तथा टिड्डी दल पर नियन्त्रण करने का प्रयास किया जाता है। वर्तमान में समेकित कृषि प्रबन्ध के अन्तर्गत पारिस्थितिकी अनुकूल कृमि नियंत्रण कार्यक्रम लागू किया गया है।

बहुफ़सली कार्यक्रम

बहुफ़सली कार्यक्रम का उद्देश्य एक ही भूमि पर वर्ष में एक से अधिक फ़सल उगाकर उत्पादन को बढ़ाना है। अन्य शब्दों में भूमि की उर्वरता शक्ति को नष्ट किये बिना, भूमि के एक इकाई क्षेत्र से अधिकतम उत्पादन प्राप्त करना ही बहुफ़सली कार्यक्रम कहलाता है। 1966-1967 में 36 लाख हेक्टेअर भूमि में बहुफ़सली कार्यक्रम लागू किया गया। वर्तमान समय में भारत की कुल संचित भूमि के 71 प्रतिशत भाग पर यह कार्यक्रम लागू है।

आधुनिक कृषि यंत्रों का प्रयोग

नई कृषि विकास विधि एवं हरित क्रान्ति में आधुनिक कृषि उपकरणों, जैसे- ट्रैक्टर, थ्रेसर, हार्वेस्टर, बुलडोजर तथा डीजल एवं बिजली के पम्पसेटों आदि ने महत्त्वपूर्ण योगदान दिया है। इस प्रकार कृषि में पशुओं तथा मानव शक्ति का प्रतिस्थापन संचालन शक्ति द्वारा किया गया है, जिससे कृषि क्षेत्र के उपयोग एवं उत्पादकता में वृद्धि हुई है।

कृषि सेवा केन्द्रों की स्थापना

कृषकों में व्यवसायिक साहस की क्षमता को विकसित करने के उद्देश्य से देश में कृषि सेवा केन्द्र स्थापित करने की योजना लागू की गई है। इस योजना में पहले व्यक्तियों को तकनीकि प्रशिक्षण दिया जाता है, फिर इनसे सेवा केंद्र स्थापित करने को कहा जाता है। इसके लिये उन्हें राष्ट्रीयकृत बैंकों से सहायता दिलाई जाती है। अब तक देश में कुल 1,314 कृषि सेवा केन्द्र स्थापितकिये जा चुके हैं।

Person in major position in India

● नीति आयोग (Niti Aayog) – अध्यक्ष, नरेन्द्र मोदी
● लोकसभा (Lok Sabha) – अध्यक्ष, सुमित्रा महाजन
● लोकसभा (Lok Sabha) – महासचिव, टी. के. विश्वनाथन
● राज्यसभा (Rajya Sabha) – अध्यक्ष, मोहम्मद हामिद अंसारी
● राज्यसभा (Rajya Sabha) – उप अध्यक्ष, पी. जे. कुरियन
● राज्यसभा (Rajya Sabha) – सदन के नेता, अरुण जेटली
● राज्यसभा (Rajya Sabha) – विपक्ष के नेता, गुलाम नबी आजाद
● राज्यसभा (Rajya Sabha) – महासचिव, शुमेस्वर के शेरिफ
● नीति आयोग (Niti Aayog) – उपाध्यक्ष – श्री अरविंद पानगढ़िया
● मुख्य चुनाव आयुक्त (Chief Election Commissioner) – सैयद नसीम जैदी
● चुनाव आयुक्त (Election Commissioner) – अचल कुमार ज्योति
● केन्द्रीय सतर्कता आयोग (CVC) – के. वी. चौधरी
● केंद्रीय सूचना आयोग (CIC) – आर. के. माथुर
● भारत के नियंत्रक एवं महालेखापरीक्षक (Comptroller and Auditor-General of India.) – शशीकान्त शर्मा
● राष्ट्रीय मानव अधिकार आयोग (NHRC) – अध्यक्ष, एच.एल. दत्तु
● मंत्रिमंडल सचिवालय (Cabinet Secretary) – प्रदीप कुमार सिन्हा
● प्रधानमंत्री के मुख्य सचिव (Principal Secretary to Prime Minister) – नृपेन्द्र मिश्रा
● राष्ट्रीय अनुसूचित जनजाति आयोग (NCST) – अध्यक्ष, डॉ. रामेश्वर ओरन
● संघ लोक सेवा आयोग (UPSC) – अध्यक्ष, प्रो. डेविड सिंमहिल
● राष्ट्रीय किसान आयोग (NCF) – अध्यक्ष, डॉ. एम. एस. स्वामीनाथन
● राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार और विशेष सलाहकार (National Security Adviser and Special Adviser) – अजीत कुमार देवल
● राष्ट्रीय अन्वेषण अभिकरण (NIA) – महानिदेशक, शरद कुमार
● रेलवे बोर्ड (Railway Board) – अध्यक्ष, ए. के. मित्तल
● गुप्तचर ब्यूरो (IB) – निदेशक, राजीव जैन
● केन्द्रीय अन्वेषण ब्यूरो (CBI) – निदेशक, राकेश अस्थाना
● रिसर्च एण्ड एनालिसिस विंग (RAW) – निदेशक, राजेन्द्र खन्ना
● नेशनल सिक्योरिटी गार्ड (NSG) – महानिदेशक, आर. सी तयाल
● केन्द्रीय रिजर्व पुलिस बल (CRPF) – महानिदेशक, प्रकाश मिश्रा
● सीमा सुरक्षा बल (BSF) – महानिदेशक, के. के. शर्मा
● केन्द्रीय औद्योगिक सुरखा बल (CISF) – महानिदेशक, ओ. पी. सिंह
● रेलवे सुरक्षा बल (RPF) – महानिदेशक, एस. के. भगत
● भारत तिब्बत सीमा पुलिस (ITBP) – महानिदेशक, कृष्णा चौधरी
● सशस्त्र सीमा बल (Sashastra Seema Bal) – महानिदेशक, अर्चना रामासुन्दरम
● भारतीय तटरक्षक (Indian Coast Guard) – महानिदेशक, राजेन्द्र सिंह
● विश्वविद्यालय अनुदान आयोग (UGC) – अध्यक्ष, प्रो. वेद प्रकाश
● रक्षा अनुसंधान एवं विकास संगठन (DRDO) –
● भारतीय अन्तरिक्ष अनुसंधान संगठन (ISRO) – अध्यक्ष, ए. एस. किरन कुमार
● परमाणु ऊर्जा आयोग और सचिव (Atomic Energy Commission and Secretary) – अध्यक्ष, डॉ. शेखर वासु
● राष्ट्रीय अल्पसंख्यक आयोग (National Commission for Minorities) – अध्यक्ष, नसीम अहमद
● कर्मचारी चयन आयोग (SSC) – अध्यक्ष, असीम खुराना
● भारतीय आयुर्विज्ञान अनुसंधान परिषद (Indian Council of Medical Research) – महानिदेशक, डॉ. सोम्या स्वामीनाथन
● भारतीय विधि आयोग (Law Commission of India) – अध्यक्ष, अजीत प्रकाश शाह
● भारतीय राष्ट्रीय इंजीनियरिंग अकादमी (INAE) – अध्यक्ष, वी. एन. सुरेश
● राष्ट्रीय वन आयोग (National Forest Commission) – अध्यक्ष, वी. एन. कृपाल
● राष्ट्रीय डेरी विकास बोर्ड (NDDB) – अध्यक्ष, दिलीप रथ
● सीमा सड़क संगठन (Border Roads Organisation) – महानिदेशक, सुरेश शर्मा
● भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) – गवर्नर, उर्जित पटेल
● भारतीय प्रेस परिषद (Press Council of India) – अध्यक्ष, सी. के. प्रसाद
● केन्द्रीय प्रत्यक्ष कर बोर्ड (CBDT) – अध्यक्ष, श्री सुशील चंद्रा
● केन्द्रीय उत्पाद एवं सीमा शुल्क बोर्ड (Central Board of Excise and Customs) – अध्यक्ष, नजीब शाह
● भारतीय प्रतिस्पर्धा आयोग (Competition Commission of India) – अध्यक्ष, देवेन्द्र कुमार सीकरी
● केंद्रीय प्रशासनिक न्यायाधिकरण (Central Administrative Tribunal) – अध्यक्ष, प्रमोद कोहली
● ऑयल एण्ड नेचुरल गैस कॉरपोरेशन (ONGC) अध्यक्ष-निदेशक, दिनेश कुमार शर्राफ
● भारतीय गैस प्राधिकरण लिमिटेड (GAIL) – अध्यक्ष-निदेशक, वी. सी. त्रिपाठी
● इंडियन ऑयल कॉरपोरेशन (IOC) – अध्यक्ष, वी. अशोक
● ऑयल इंडिया लिमिटेड (Oil India Ltd.) – अध्यक्ष-निदेशक, श्री उत्पल बोरा
● केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (CBSE) – अध्यक्ष, आर. के. चतुर्वेदी
● भारतीय प्रतिभूति एवं विनियामक बोर्ड (SEBI) – अध्यक्ष, यू.के. सिन्हा
● राष्ट्रीय कृषि और ग्रामीण विकास बैंक (NABARD) – अध्यक्ष, डॉ हर्ष कुमार भानवाला
● भारतीय स्टेट बैंक (SBI) – अध्यक्ष, अरुन्धति भट्टाचार्य
● भारतीय औद्योगिक विकास बैंक (IDBI) – अध्यक्ष, किशोर खरात
● कम्पनी विधि बोर्ड (Company Law Board) – अध्यक्ष, श्री महेश मित्तल कुमार
● संयुक्त राष्ट्र में भारत के स्थायी प्रतिनिधि (India’s Permanent Representative to UN) – सैयद अकबरुद्दीन
● भारतीय जीवन बीमा निगम (LIC) – अध्यक्ष, एस. के. रॉय
● केन्द्रीय जल आयोग (Central Water Commission) – अध्यक्ष, जी. एस. झा
● राष्ट्रीय महिला आयोग (National Commission for Women) – अध्यक्ष, ललिता कुमारमंगलम
● 14 वें वित्त आयोग (14th Finance Commission) – अध्यक्ष, डॉ. वाई. वी. रेड्डी
● राष्ट्रीय सांख्यिकी आयोग (National Statistical Commission) – अध्यक्ष, राधा विनोद बर्मन
● केन्द्रीय फिल्म प्रमाणन बोर्ड (CBFC) – अध्यक्ष, पहलाज निहलानी
● भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण (ASI) – महानिदेशक, डॉ. राकेश तिवारी
● भारतीय दूरसंचार विनियामक प्राधिकरण (TRAI) – अध्यक्ष, श्री रघुवीर सिंह
● प्रवर्तन निदेशालय (Enforcement Directorate) – अध्यक्ष, श्री करनाल सिंह
● पेशन निधि विनियामक और विकास प्राधिकरण (PFRDA) – अध्यक्ष, हेमंत जी कॉन्ट्रैक्टर
● भाभा परमाणु अनसंधान केंद्र (Bhabha Atomic Research Centre) – निदेशक, के. एन. व्यास
● भारतीय ओलंपिक संघ (Indian Olympic Association) – अध्यक्ष, एन रामचंद्रन
● राष्ट्रीय शैक्षिक अनुसंधान और प्रशिक्षण परिषद् (NCERT) – निदेशक, डॉ. हृषिकेश सेनापति
● भारतीय उद्योग परिसंघ (CII) – अध्यक्ष, डॉ नौशाद फोर्ब्स
● प्रसार भारतीय बोर्ड (Prasar Bharti Board) – अध्यक्ष, डॉ. ए. सूर्य प्रकाश
● निवेश आयोग (Investment Commission) – अध्यक्ष, रतन टाटा
● भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (BCCI) – अनुराग सिंह ठाकुर
● अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट परिषद (ICC) – अध्यक्ष, शशांक मनोहर
● नेशनल एसोसिएशन ऑफ सॉफ्टवेयर एण्ड सर्विसेज कम्पनीज (NASSCOM) – अध्यक्ष, सी. पी. गुरनानी
● राष्ट्रीय फिल्म विकास निगम (NFDC) – अध्यक्ष, नीना लथ गुप्ता
● प्रेस ट्रस्ट ऑफ इण्डिया (PTI) – अध्यक्ष, रियाद मैथ्य

Do you know this information

1. 📚 चीनी को जब चोट पर लगाया जाता है, दर्द तुरंत कम हो जाता है…
2. 📚 जरूरत से ज्यादा टेंशन आपके दिमाग को कुछ समय के लिए बंद कर सकती है…
3.📚 92% लोग सिर्फ हस देते हैं जब उन्हे सामने वाले की बात समझ नही आती…
4.📚 बतक अपने आधे दिमाग को सुला सकती हैंजबकि उनका आधा दिमाग जगा रहता….
5.📚 कोई भी अपने आप को सांस रोककर नही मार सकता…
6.📚 स्टडी के अनुसार : होशियार लोग ज्यादा तर अपने आप से बातें करते हैं…
7.📚 सुबह एक कप चाय की बजाए एक गिलास ठंडा पानी आपकी नींद जल्दी खोल देता है…
8.📚 जुराब पहन कर सोने वाले लोग रात को बहुत कम बार जागते हैं या बिल्कुल नही जागते…
9.📚 फेसबुक बनाने वाले मार्क जुकरबर्ग के पास कोई कालेज डिगरी नही है…
10.📚 आपका दिमाग एक भी चेहरा अपने आप नही बना सकता आप जो भी चेहरे सपनों में देखते हैं वो जिदंगी में कभी ना कभी आपके द्वारा देखे जा चुके होते हैं…
11.📚 अगर कोई आप की तरफ घूर रहा हो तो आप को खुद एहसास हो जाता है चाहे आप नींद में ही क्यों ना हो…
12.📚 दुनिया में सबसे ज्यादा प्रयोग किया जाने वाला पासवर्ड 123456 है…..
13.📚 85% लोग सोने से पहले वो सब सोचते हैं जो वो अपनी जिंदगी में करना चाहते हैं…
14.📚 खुश रहने वालों की बजाए परेशान रहने वाले लोग ज्यादा पैसे खर्च करते हैं…
15.📚 माँ अपने बच्चे के भार का तकरीबन सही अदांजा लगा सकती है जबकि बाप उसकी लम्बाई का…
16.📚 पढना और सपने लेना हमारे दिमाग के अलग-अलग भागों की क्रिया है इसी लिए हम सपने में पढ नही पाते…
17.📚 अगर एक चींटी का आकार एक आदमी के बराबर हो तो वो कार से दुगुनी तेजी से दौडेगी…
18.📚 आप सोचना बंद नही कर सकते…..
19.📚 चींटीयाँ कभी नही सोती…
20.📚 हाथी ही एक एसा जानवर है जो कूद नही सकता…
21.📚 जीभ हमारे शरीर की सबसे मजबूत मासपेशी है…
22.📚 नील आर्मस्ट्रांग ने चन्द्रमा पर अपना बायां पाँव पहलेरखा था उस समय उसका दिल 1 मिनट में 156 बार धडक रहा था…
23.📚 पृथ्वी के गुरूत्वाकर्षण बल के कारण पर्वतों का 15,000मीटर से ऊँचा होना संभव नही है…
23.📚 शहद हजारों सालों तक खराब नही होता..
24.📚 समुंद्री केकडे का दिल उसके सिर में होता है…
25.📚 कुछ कीडे भोजन ना मिलने पर खुद को ही खा जाते है….
26.📚 छींकते वक्त दिल की धडकन 1 मिली सेकेंड के लिए रूक जाती है…
27.📚 लगातार 11 दिन से अधिक जागना असंभव है…
28.📚 हमारे शरीर में इतना लोहा होता है कि उससे 1 इंच लंबी कील बनाई जा सकती है…..
29.📚 बिल गेट्स 1 सेकेंड में करीब 12,000 रूपए कमाते हैं…
30.📚 आप को कभी भी ये याद नही रहेगा कि आपका सपना कहां से शुरू हुआ था…
31.📚 हर सेकेंड 100 बार आसमानी बिजली धरती पर गिरती है…
32.📚 कंगारू उल्टा नही चल सकते…
33.📚 इंटरनेट पर 80% ट्रैफिक सर्च इंजन से आती है…
34.📚 एक गिलहरी की उमर,, 9 साल होती है…
35.📚 हमारे हर रोज 200 बाल झडते हैं…
36.📚 हमारा बांया पांव हमारे दांये पांव से बडा होता हैं…
37.📚 गिलहरी का एक दांत हमेशा बढता रहता है….
38.📚 दुनिया के 100 सबसे अमीर आदमी एक साल में इतना कमा लेते हैं जिससे दुनिया की गरीबी 4 बार खत्म की जा सकती है…
39.📚 एक शुतुरमुर्ग की आँखे उसके दिमाग से बडी होती है…
40.📚 चमगादड गुफा से निकलकर हमेशा बांई तरफ मुडती है…
41.📚 ऊँट के दूध की दही नही बन सकता…
42.📚 एक काॅकरोच सिर कटने के बाद भी कई दिन तक जिवित रह सकता है…
43.📚 कोका कोला का असली रंग हरा था…
44.📚 लाइटर का अविष्कार माचिस से पहले हुआ था…
45.📚 रूपए कागज से नहीं बल्कि कपास से बनते है…
46.📚 मनुष्य के दिमाग में 80% पानी होता है.
47.📚 मनुष्य का खून 21 दिन तक स्टोर किया जा सकता है…
48.📚 फिंगर प्रिंट की तरह मनुष्य की जीभ के निशान भी अलग-अलग होते हैं…