वीवीपीएटी (Voter Verifiable Paper Audit Trail) है क्या तथा कैसे कार्य करता है

मतदाता ज्यों ही मतदान करेगा एक बीप की आवाज आएगी उसके साथ ही वीवीपीएट के डिस्प्ले पर स्लिप नजर आएगी, उस पर मतदाता ने जिस उम्मीदवार, राजनीतिक पार्टी अथवा नोटा को मत दिया होगा उसका चिन्ह छपा होगा जिससे मतदाता को पता चल सकेगा कि उसने जिसको वोट दिया है उसका वोट उसी को मिला है.

पाटीदार आरक्षण आंदोलन से जुडी रेशमा पटेल ने उच्चतम न्यायालय में याचिका दाखिल कर राज्य में वीवीपीएटी का उपयोग की मांग की थी. उनका कहना था कि ईवीएम में गड़बड़ी व मतों में हेरफेर की आशंका होती है इसलिए वीवीपीएटी अथवा बैलट पेपर से विधानसभा चुनाव कराए जाएं.

देश में पहली बार ईवीएम के साथ वीवीपीएटी का उपयोग किया जायेगा-

देश में गुजरात के विधानसभा चुनावों से ईवीएम मशीन के साथ पहली बार वीवीपीएटी का उपयोग किया जायेगा. इसके तहत मतदाता मत देने के बाद वीवीपीएटी डिस्प्ले पर पर्ची को देख सकेगा बाद में यह पर्ची बॉक्स में गिर जायेगी.

गुजरात के मुख्य चुनाव अधिकारी बीबी स्वेन ने इलेक्ट्रॉनिक वोटिंग मशीन के साथ वोटर वेरिफाइड पेपर ऑडिट ट्रेल मशीन के प्रथम डेमो के लिए गांधीनगर में पत्रकार वार्ता का आयोजन किया जिसमें उन्होंने बताया कि राज्य में पहली बार राज्य के सभी मतदान केन्द्रों पर ईवीएम के साथ वीवीपीएटी का उपयोग होगा.

 

Posted in NEWS and tagged , .

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *